राज्य

निर्वाचन आयोग ने सामान्य एवं पुलिस पर्यवेक्षकों को दिया प्रशिक्षण

भोपाल
भारत निर्वाचन आयोग ने गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड सहित पाँच राज्यों के साधारण विधानसभा निर्वाचनों की घोषणा कर दी है। निर्वाचन आयोग ने इन पाँच राज्यों के विधानसभा निर्वाचन में मध्यप्रदेश राज्य के 45 आई.ए.एस. अधिकारियों को सामान्य पर्यवेक्षक, 15 आई.पी.एस. अधिकारियों को पुलिस पर्यवेक्षक एवं 17 आई.ए.एस. अधिकारियों को व्यय पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। शुक्रवार को नरोन्हा प्रशासन अकादमी में इन अधिकारियों को आयोग द्वारा वर्चुअल तकनीक से प्रशिक्षण दिया गया।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अनुपम राजन ने प्रशिक्षण कार्यक्रम में पाँचों राज्यों हेतु नियुक्त राज्य के समस्त केन्द्रीय पर्यवेक्षक का स्वागत कर शुभाकामनाएँ दी। कार्यक्रम में राजेश कुमार कौल, अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एवं प्रमोद शुक्ला, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी भी उपस्थित रहे।

मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने तीनों पर्यवेक्षकों (सामान्य पुलिस एवं व्यय) को प्रवर्तन एजेंसियों के साथ समन्वय में काम करने के निर्देश दिए।चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने बताया कि केन्द्रीय पर्यवेक्षक प्रणाली अब अच्छी तरह से स्थापित हो गई है और पर्यवेक्षक चुनाव कराने में अहम भूमिका निभाते हैं। पर्यवेक्षक आयोग के प्रतिनिधि हैं और उन्हें पूरी तरह जागरूक होना चाहिए तथा उन्हें सौंपे गए इस पवित्र और कठिन कर्तव्य से परिचित रहना चाहिए।

चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पाण्डेय ने बताया कि कोविड-19 के बीच चुनाव कराना चुनौतीपूर्ण है। केन्द्रीय पर्यवेक्षकों को यह सुनिश्चित करें कि मतदाताओं के लिए मतदान केंद्रों पर मुफ्त और मतदाता हितैषी उपाय उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने यह भी बताया कि निर्वाचन में केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती में पर्यवेक्षकों को अहम भूमिका निभानी चाहिए। मौजूदा समय में वर्चुअल प्रचार पर कार्य किए जाने पर जोर दिया जाये। उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गलत सूचना और नफरत फैलाने वाले अभियान को कम करने की जरूरत बताई।

प्रशिक्षण-सत्र के दौरान उमेश सिन्हा,महासचिव,भारत निर्वाचन आयोग ने पर्यवेक्षकों को चुनाव योजना,सुरक्षा प्रबंधन और स्वीप के बारे में जानकारी दी। उन्होंने पर्यवेक्षक की महत्वपूर्ण भूमिका पर भी प्रकाश डाला तथा अवगत कराया कि पर्यवेक्षक अपने स्वयं के तटस्थ,नैतिक और सौहार्दपूर्ण आचरण को सुनिश्चित करते हैं।

वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त चंद्र भूषण कुमार ने पर्यवेक्षकों को कानूनी मुद्दे एवं एमसीसी से संबंधित जानकारी दी। उप चुनाव आयुक्त नीतेश व्यास ने पर्यवेक्षकों को ईवीएम-वीवीपीएटी प्रबंधन एवं पर मतदाता सूची के मुद्दों पर प्रकाश डाला। उप चुनाव आयुक्त टी. श्रीकांत ने आयोग के विभिन्न आईटी अनुप्रयोग और पहल के बारे में जानकारी दी। सुश्री शेफाली शरण,महानिदेशक (मीडिया) ने मीडिया प्रमाणन और निगरानी समितियों सहित प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रानिक्स मीडिया और सोशल मीडिया से संबंधित जानकारी दी।

कार्यक्रम के आरंभ में कुल 64 अधिकारियों द्वारा रजिस्ट्रेशन किया गया। इसमें 3 आईएएस एवं 3 आईपीएस तथा 6 आईआरएस अधिकारियों द्वारा अन्य स्थलों से प्रशिक्षण प्राप्त किया गया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा सभी पर्यवेक्षकों को संबोधित करते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि चुनाव के दौरान पर्यवेक्षक भारत निर्वाचन आयोग की आँख-कान होते हैं। चुनाव को पूरी तरह से स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी के संचालन को सुनिश्चित करने के लिए पर्यवेक्षकों की समस्त मुद्दों पर तीखी नजर के साथ और सुरक्षित चुनाव कराने में अहम भूमिका होगी। चुनाव में आदर्श आचार संहिता में किसी भी चूक के लिए सतर्क रहना होगा। आयोग द्वारा जारी मौजूदा COVIDदिशा-निर्देशों को सख्ती से लागू करने के संबंध में जिला प्रशासन द्वारा कार्यवाही पर निगरानी होनी चाहिए। चुनाव में धन शक्ति या किसी भी प्रकार के प्रलोभन या प्रक्रिया के दुरुपयोग में पर्यवेक्षकों को अपने कौशल का प्रर्दशन करना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Latest News

Latest Post
Latest News
Close