सेहत

इस शैम्पू से बंद होगा हेयरफाल

बाल और स्कैल्प को क्लीन रखने का सबसे अच्छा तरीका है, उसे धोना। कोई दो दिन में एक बार, कोई सप्ताह में एक बार तो कोई रोजाना हेयर वॉश करना पसंद करता है। इसे हर व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार करता है। हालांकि, ऐसा कहते हुए न जाने आपने कितने लोगों को सुना होगा कि अगर रोज शैंपू करोगे, तो बाल ज्यादा झड़ने लगेंगे। इस बात को कोई अपने अनुभव के आधार पर कहता है, तो कोई दूसरे से सुनी हुई बातों के बेस पर। हालांकि, सच तो ये है कि Daily Shampoo और Hair fall के बीच का कनेक्शन सही भी है और गलत भी। किन स्थितियों में ये सही साबित होता है और किन में नहीं, इस बारे में मशहूर डर्मेटोलॉजिस्ट और सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाली डॉक्टर रश्मि शेट्टी ने एक वीडियो शेयर कर बताया है। इसमें उन्होंने इस सवाल का जवाब दिया कि क्या रोज शैंपू करने से बाल झड़ने लगते हैं।

अपने जवाब नें डर्मेटोलॉजिस्ट ने कहा 'ये आपके स्कैल्प टाइप पर निर्भर करता है। बात जब भी अच्छे बाल और त्वचा की होती है, तो मैं हमेशा स्कैल्प हेल्थ, स्कैल्प हाइजीन और स्कैल्प टाइप पर जोर देती हूं। उन्होंने कहा कि अगर आपका स्कैल्प ऑइली, स्वैटी और डैंड्रफ वाला है, तो आपको रोज हेयर वॉश करना चाहिए।'

हेयर वॉश का सही तरीका

डॉक्टर रश्मि ने आगे बताया कि जब रोजाना बाल धोना हो, तो उसका सही तरीका क्या होना चाहिए। 'जब आप रोज शैंपू करें, तो अपने स्कैल्प को धोएं न की पूरी हेयर लेंथ को, नहीं तो बाल रूखे हो सकते हैं।' उन्होंने इस बात को कैप्शन में भी समझाया और लिखा 'शैंपू को स्कैल्प पर ही लगाएं और फिर धोते समय उसे नीचे तक लाएं। ऐसा तीन या चार दिन में एक बार किया जा सकता है।'

तो न करें रोज शैंपू

उन्होंने ये भी बताया कि किस स्थिति में रोज शैंपू करने की जरूरत नहीं होती है। 'अगर आपका ड्राई स्कैल्प है या फिर वो साफ है, तो उसे रोज धोने की जरूरत नहीं है। रोज सिर धोने का मतलब हेयर फॉल होना नहीं है। बल्कि रोजाना हेयर वॉश वो विकल्प है, जिसे स्कैल्प टाइप और कंडिशन के आधार पर चुना जाता है।' अपने कैप्शन में उन्होंने ये भी लिखा कि अगर हेयर वॉश सही तरह से और जरूरत के मुताबिक किया जाए, तो रोज बाल धोना फायदा दे सकता है।

बाल नहीं, स्कैल्प होता है गंदा

डॉक्टर शेट्टी ने इससे जुड़ी एक और पोस्ट पहले भी शेयर की थी, जिसमें उन्होंने इन चीजों को विस्तार से समझाया था। उन्होंने पोस्ट में लिखा था 'बाल धोने का मतलब होता है स्कैल्प को साफ करना। हमारे हेयर आमतौर पर तब तक गंदे नहीं होते हैं, जब तक कि हम किसी आउटडोर एक्टिविटी, फिजिकल एक्टिविटी या फिर हेयर जेल, स्प्रे जैसे प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं करते।'

कितनी बार धोएं बाल

डर्मेटोलॉजिस्ट ने आगे ऑइली, ड्राई और डैंड्रफ वाली स्कैल्प को धोने की प्रक्रिया से जुड़ी बातें शेयर की थीं। 'ड्राई, क्लीन, हाइड्रेटिड, सेंसेटिव स्कैल्प, ऐसे लोग जिन्हें ज्यादा पसीना नहीं आता या फिर उनका फ्लेकी स्कैल्प नहीं है, वो सप्ताह में 2-3 बार हेयर वॉश करें। ऑइली, स्वैटी, जो लोग रोज वर्कआउट करते हैं या फिर जिन्हें डैंड्रफ की समस्या है, उन्हें अपने बाल रोज धोना चाहिए। ज्यादा बार बाल धोने से हेयर फॉल नहीं बढ़ता है।'

स्कैल्प वॉशिंग

'एक कॉन्सेप्ट है, जिसमें बाल नहीं बल्कि स्कैल्प शैंपू करने पर जोर दिया जाता है। अगर आपको स्कैल्प ऑइली है और बाल ड्राई हैं, तो Scalp Washing करें फिर बालों को कंडिशनर लगाकर धोएं। ये हेयर को ज्यादा रूखा और फ्रिजी होने से बचाएगा।' डॉक्टर रश्मि ने खास टिप भी दी थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि ज्यादा बार शैंपू करना बालों को रूखा बना सकता है। ऐसे में बाल को तौलिए से सुखाने से पहले तेल की कुछ बूंदे उन पर लगाएं।

एंटी-डैंड्रफ शैंपू का इस्तेमाल

'ड्राई हेयर वालों को पहले आम शैंपू से स्कैल्प और बाल धोना चाहिए। इसके बाद सेकंड रिंज में ऐंटी-डैंड्रफ शैंपू का इस्तेमाल करें और उसे सिर्फ स्कैल्प पर लगाएं व वॉश करें। इसके बाद बालों पर कंडीशनर लगाएं और फिर उन्हें धोएं।' डॉक्टर रश्मि ने ये भी कहा कि 'जब आप बालों की ऑइलिंग करते हैं, तो दो बार शैंपू कर वॉश न करें, नहीं तो तेल लगाने का कोई मतलब नहीं रह जाएगा, क्योंकि शैंपू पूरी तरह से उसे और नैचरल ऑइल्स को स्कैल्प से हटा देगा, जिससे फायदा नहीं मिलेगा।'

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Latest News

Latest Post
Latest News
Close