देश

11 साल में तीसरी बार सबसे ठंडा गुजर रहा जनवरी

देहरादून
उत्तराखंड में जनवरी महीने का दूसरा हफ्ता सबसे ठंडा गुजरा। वीकेंड पर कोहरे के साथ शीतलहर ने ठिठुरन भरी ठंड में इजाफा कर दिया। हल्द्वानी और आसपास के इलाकों में अधिकतम तापमान लुढ़क कर 12 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। वहीं तीसरे हफ्ते की शुरुआत भी कड़ाके की ठंड के साथ हुई है। इतना ही नहीं 11 सालों में ये तीसरा मौका है जब जनवरी माह के दूसरे हफ्ते में कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ा है। राज्य के पर्वतीय जिंलों में 19, 20 और 21 जनवरी को बारिश और बर्फबारी की संभावना है। इस दौरान 2500 से 3000 मीटर उससे अधिक ऊंचाई वाले स्थानों में बर्फबारी हो सकती है। इससे पहले जनवरी 2011 में दूसरे हफ्ते में ठिठुरन भरी ठंड रही थी। हल्द्वानी में तब हफ्ते के पहले ही दिन अधिकतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। जबकि वीकेंड पर दिन का तापमान 14.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया था। इसके बाद 2020 में दिन का तापमान 11 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया था। उधर, सोमवार को नैनीताल में सर्द हवाओं ने लोगों को परेशान किया।

तीन दिन बाद धूप के दर्शन, राहत नहीं
कोहरे और शीतलहर की वजह से पड़ रही ठंड से लोग परेशान हैं। लेकिन सोमवार दोपहर में धूप खिली। धूप खिलने के बावजूद ठंड से राहत नहीं मिली। इधर, हल्द्वानी  में अधिकतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 9.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जीबी पंत कृषि विवि के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक डॉ. आरके सिंह के मुताबिक मंगलवार को कोहरा छाया रहने की संभावना है।  

उत्तराखंड में फिर बदलेगा मौसम
राज्य के पर्वतीय जिंलों में 19, 20 और 21 जनवरी को बारिश और बर्फबारी की संभावना है। इस दौरान 2500 से 3000 मीटर उससे अधिक ऊंचाई वाले स्थानों में बर्फबारी हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार, 21 के बाद अगले दो दिनों में बारिश में तेजी आ सकती है। मंगलवार की शाम से राज्य में पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के चलते एक बार फिर मौसम बदलता दिख रहा है। मौसम विभाग के ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक मंगलवार को प्रदेश में मौसम शुष्क रहेगा, मैदानी क्षेत्रों के कुछ भागों विशेषकर हरिद्वार व उधमसिंहनगर जिले में उथला से मध्यम कोहरा छाए रहने की संभावना है। 19 जनवरी से उत्तरकाशी रुद्रप्रयाग चमोली पिथौरागढ़ जिलों में कहीं-कहीं बहुत हल्की हल्की बारिश बर्फबारी हो सकती है। 19 को ही 3000 मीटर व उससे अधिक ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फवारी की अधिक संभावना है, जबकि 20 और 21 को पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश, बर्फवाती का क्रम जारी रह सकता है। 2500 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले स्थानों में बर्फबारी हो सकती है। 22 और 23 को प्रदेश में बारिश में वृद्धि होगी। कोहरे और ठंड को लेकर एक बार फिर मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक मैदानी क्षेत्रों में घना कोहरा लगने से ड्राइविंग की मुश्किल स्थिति बनेगी। हवाई अड्डे में न्यूनतम सीमा से कम दृश्यता विमान लैंडिंग को प्रभावित कर सकती है। मौसम विभाग ने यात्रियों से अपनी यात्रा निर्धारण के लिए एयरलाइन, रेलवे, राज्य परिवहन के संपर्क में रहने का सुझाव दिया है। कोहरे में चलते समय फोग लाइट के इस्तेमाल का सुझाव दिया है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Latest News

Latest Post
Latest News
Close