राज्य

फीस फिक्स नहीं कराने वाले कॉलेज नहीं दे पाएंगे एडमिशन

भोपाल
प्रवेश एवं फीस विनियामक समिति सूबे के प्रोफेशनल कॉलेजों की आगामी तीन सत्रों की फीस निर्धारित करने जा रहा है। आगामी सत्र 2022-23, 2023-24 और 2024-25 की फीस निर्धारित करने के लिए कमेटी ने आवेदन जमा कराना शुरू कर दिया है। कॉलेज अपनी फीस फिक्स कराने फीस कमेटी नहीं पहुंचते हैं, तो उन्हें प्रवेश करने काउंसलिंग में शामिल नहीं किया जाएगा। इससे उनके विद्यार्थियों को मिलने वाली स्कालरशिप भी खतरा मंडलराएगा।

स्कॉलरशिप में आएगी विद्यार्थियों को परेशानी
कॉलेज फीस फिक्स कराने के कमेटी नहीं आते हैं, तो अपने प्रवेशित विद्यार्थियों की स्कालरशिप दिलाने में काफी कठिनाई आएगी। क्योंकि कई कालेज विद्यार्थियों को स्कालरशिप के आधार पर प्रवेश दे देते हैं। आदमजाति कल्याण और अन्य स्कालरशिप देने वाले विभागों ने फीस कमेटी द्वारा फीस निर्धारित होने के बाद ही स्कालरशिप देने के आदेश जारी कर रखे हैं। जब फीस कमेटी उन्हें फीस फिक्स करने का पत्र नहीं देगा। विभाग उनकी स्कालरशिप जारी नहीं करेंगे।

कमेटी ने आवेदन जमा करना शुरू किया
सूबे के इंजीनियरिंग, एमबीए, फार्मेसी, बीएड, बीपीएड, बीएबीएड, बीएससीबीएड, एमएड, एमपीएड कॉलेज अपनी वर्तमान, पिछली फीस और औसतन फीस फिक्स कराने के लिए फीस कमेटी को आवेदन देंगे।  कमेटी ने आवेदन जमा कराना शुरू कर दिया है। उनके आवेदन में कई ऐसे दस्तावेज होते थे, जिसके विहाप पर कमेटी उन्हें पिछली फीस या न्यूनतम फीस तय कर देती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब कालेजों को गत वर्ष हुए खर्चे के हिसाब से ही फीस मिलेगी। इससे उनकी फीस में काफी कटौती हो सकती है। इसका फायदा अब विद्यार्थियों को मिलेगा। उन्हें मिलने वाली सुविधाओं के हिसाब से फीस जमा करना होगी। इसी लिहाज से फीस कमेटी ने आगामी तीन सत्र 2022-23, 2023-24 और 2024-25 की फीस निर्धारित करने के मापदंड तैयार किए हैं। इससे कालेज विद्यार्थियों से मनमानी नहीं बल्कि सही फीस ही ले पाएंगे। फीस फिक्स नहीं होने पर उनके विद्यार्थियों को स्कालरशिप मिलने में काफी परेशानी तक हो सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Latest News

Latest Post
Latest News
Close